तेलंगाना कांग्रेस प्रमुख की किसानों के लिए मुफ्त बिजली को लेकर टिप्पणी पर बवाल


तेलंगाना कांग्रेस प्रमुख ए. रेवंत रेड्डी की किसानों को मुफ्त बिजली को लेकर टिप्पणी ने राज्य की राजनीति में हलचल पैदा कर दी है, और सत्तारूढ़ भारत राष्ट्र समिति (बीआरएस) ने उनके किसान विरोधी रुख के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया है। उधर कांग्रेस ने डैमेज कंट्रोल के लिए कदम उठाए हैं।

रेवंत रेड्डी इस समय संयुक्त राज्य अमेरिका की यात्रा पर हैं। उन्होंने तेलुगु एसोसिएशन ऑफ नॉर्थ अमेरिका (टीएएनए) की एक बैठक के दौरान 24 घंटे मुफ्त बिजली योजना के बारे में टिप्पणी की।

उन्होंने कहा कि राज्य में 95 प्रतिशत किसान छोटे और सीमांत किसान हैं, जिनके पास तीन एकड़ से कम जमीन है। तेलंगाना प्रदेश कांग्रेस कमेटी (टीपीसीसी) के अध्यक्ष ने कहा कि प्रत्येक किसान हर दिन तीन घंटे की बिजली आपूर्ति के साथ तीन एकड़ जमीन की सिंचाई कर सकता है।

उन्होंने आगे कहा कि कृषि क्षेत्र के लिए आठ घंटे बिजली की आपूर्ति पर्याप्त है। टीपीसीसी प्रमुख ने आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव 24 घंटे बिजली आपूर्ति को लेकर लोगों को गुमराह कर रहे हैं और राजनीतिक लाभ के लिए इसका दुरुपयोग कर रहे हैं।

सत्तारूढ़ बीआरएस ने कांग्रेस पर किसानों के खिलाफ होने का आरोप लगाकर निशाना साधा। बीआरएस के कार्यकारी अध्यक्ष केटी रामा राव ने कांग्रेस पार्टी की किसान विरोधी नीतियों के खिलाफ राज्य भर में दो दिवसीय विरोध प्रदर्शन का आह्वान किया।

बीआरएस नेताओं ने यह भी आरोप लगाया कि अगर कांग्रेस पार्टी सत्ता में आई तो वह पिछले नौ वर्षों से उनकी सरकार द्वारा लागू की जा रही किसानों को 24 घंटे मुफ्त बिजली आपूर्ति को खत्म कर देगी। इस साल के अंत में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं, बीआरएस जाहिर तौर पर रेवंत रेड्डी द्वारा की गई टिप्पणियों को राजनीतिक रूप से भुनाने की कोशिश कर रहा है।

इसमें आरोप लगाया गया कि रेवंत रेड्डी ने किसानों को मुफ्त बिजली देने का विरोध किया। बीआरएस ने पार्टी कार्यकर्ताओं से हर गांव में कांग्रेस पार्टी के पुतले जलाने को कहा। केटीआर ने कहा कि कांग्रेस पार्टी का किसानों को बिजली न देकर धोखा देने का इतिहास रहा है।

कांग्रेस पार्टी किसानों की नंबर एक दुश्मन है। ऊर्जा मंत्री जगदीश रेड्डी ने कहा, रेवंत के बयान ने एक बार फिर पार्टी को बेनकाब कर दिया है। बीआरएस द्वारा हमला शुरू करने के साथ ही कांग्रेस पार्टी ने क्षति नियंत्रण की कवायद शुरू कर दी।

इसके नेताओं ने आरोप लगाया कि बीआरएस रेवंत रेड्डी के बयान को तोड़-मरोड़कर पेश करने की कोशिश कर रहा है। वरिष्ठ कांग्रेस नेता मल्लू रवि ने दावा किया कि मुफ्त बिजली पर पेटेंट का अधिकार कांग्रेस पार्टी के पास है। उन्होंने बीआरएस नेताओं को याद दिलाया कि यह कांग्रेस पार्टी ही थी जिसने किसानों के लिए मुफ्त बिजली योजना शुरू की थी।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *